Twitter | Search | |
Virag Gupta
Writer & Lawyer | Cyber & Constitution | CASC भीड़ नहीं हूं दुनिया की, अंदर एक जमाना है.....
11,509
Tweets
47
Following
1,939
Followers
Tweets
Virag Gupta Apr 20
चुनावों में झूठे वादों को अपराध बनाने के लिए ने सरकार से कई बार कानून बनाने की सिफारिश की. इलाहाबाद हाईकोर्ट की नोटिस से अगले आम चुनावों में दलों की ठगी के खिलाफ यदि कठोर कानून बन जाय तो यह लोकतन्त्र के लिए शुभकारी होगा। पर के साथ
Reply Retweet Like
Virag Gupta Apr 20
की योजना को भ्रष्ट आचरण मानते हुए इलाहाबाद हाईकोर्ट ने और सरकार से जवाब मांगा है. चुनावों में झूठे वादों को अपराध बनाने के लिए Election Commission of India ने सरकार से अनेक बार कानून...
Reply Retweet Like
Virag Gupta Apr 18
ने डाटा की सुरक्षा का दावा किया है, परन्तु तेलंगाना पुलिस ने में निजी कम्पनी द्वारा करोड़ों की चोरी पर शिकायत दर्ज़ की है. से कैसे प्रभावित हो सकते हैं चुनाव? कब आयेगा कानून की ख़ास रिपोर्ट
Reply Retweet Like
Virag Gupta Apr 17
की सुप्रीम ताकत के बाद ने बयानबाज नेताओं को खामोश रहने की चेतावनी दे दी है। पर बड़ा सवाल यह है की चुनाव आयोग की नैतिक आचार संहिता, राजनीति के गिरते स्तर पर कैसे लगाम लगा पाएगी? Zee...
Reply Retweet Like
Virag Gupta retweeted
Zee Business Apr 16
| जानिए चुनाव आयोग के अधिकार पर क्या कहा संविधान मामलों के जानकार विराग गुप्ता ने।
Reply Retweet Like
Virag Gupta Apr 16
की सुप्रीम ताकत के बाद ने बयानबाज नेताओं को खामोश रहने की चेतावनी दे दी है। पर बड़ा सवाल यह है की चुनाव आयोग की नैतिक आचार संहिता, राजनीति के गिरते स्तर पर कैसे लगाम लगा पाएगी? पर
Reply Retweet Like
Virag Gupta retweeted
Shubham Shankdhar Apr 12
चुनाव प्रचार अब झंडा, पोस्टर, बैनर और टोपी तक सीमित नहीं रहा बल्कि सोशल मीडिया के रास्ते मतदाताओं के दिल और दिमाग तक असर डाल रहा है. क्या है 2019 में राजनैतिक दलों की सोशल मीडिया रणनीति... पढ़िए के ताजा अंक में मेरी स्टोरी ''बेकाबू इंटरनेट - चुनावी मोर्चा''
Reply Retweet Like
Virag Gupta Apr 16
हनुमानजी को शक्ति की याद दिलाये जाने के बाद, वे समुद्र पार करके लंका दहन कर देते हैं. की फटकार के बाद ने भी नेताओं के खिलाफ ताबड़तोड़ कार्रवाई कर डाली. मेरा ब्लॉग
Reply Retweet Like
Virag Gupta Apr 15
अमेरिका के दस्तावेजों से पुष्ट है कि समेत एक दर्ज़न कंपनियों ने भारत में घूस दिया। चुनावी बखेड़ा खड़ा करने वाले और के नेता उबर से लाभ लेने के लिए एक हैं. में नेताओं-अफसरों के भ्रष्टाचार की जांच से लोकपाल अपनी शुरुवात क्यों नहीं करे?
Reply Retweet Like
Virag Gupta Apr 15
disclosures in USA SEC filing exposes nexus across political spectrum in . in Center, in Karnataka, in AP & in Delhi helped Uber to gain undue benefits. Improper payments by Uber to Indian authorities need enquiry.
Reply Retweet Like
Virag Gupta retweeted
Rajesh Priyadarshi Apr 15
All you need to know about Electoral Bond. explains what all is wrong with the electoral bond.
Reply Retweet Like
Virag Gupta Apr 15
99% of funds received @ 10 lakh or 1 Cr. Bonds are available for Rs 1000. Why not cash donation above Rs. 20000 from all sources is banned by . Why Parties running away from Transparency? My opinion
Reply Retweet Like
Virag Gupta Apr 15
पार्टियों को 99% चन्दा 10 लाख या 1 करोड़ के से मिला। हजार रुपये में उपलब्ध है तो अब 20 हज़ार से उपर के नगदी चन्दे पर बैन क्यों नहीं? पारदर्शिता से भाग रहे दल और चुनावी बाॅण्ड का गोरखधंधा, मेरा नजरिया
Reply Retweet Like
Virag Gupta retweeted
BBC News Hindi Apr 13
चुनावी बॉण्डः वो सवाल जिनके जवाब मिलना बाकी हैः नज़रिया
Reply Retweet Like
Virag Gupta Apr 12
Reply Retweet Like
Virag Gupta Apr 12
आम जनता के गाली-गलौच पर द्वारा फौजदारी का मामला, फिर बड़े नेताओं को से छूट क्यों? नेताओं के चुनावी भाषण गम्भीर नहीं या उनके आरोप निराधार होते हैं? राजनीति के गिरते स्तर और की भूमिका पर रात 8PM
Reply Retweet Like
Virag Gupta retweeted
Shubham Shankdhar Apr 12
Reply Retweet Like
Virag Gupta retweeted
CASC Apr 11
security breach & letter to . Reality will come after report. However, it is disappointing that despite notice, is not enforcing rules. VVIPs continue to organise unlawful &
Reply Retweet Like
Virag Gupta retweeted
આલોક જોશી आलोक जोशी AlokJoshi آلوک جوشی అలోక్ జోషీ Apr 10
चोर अपने घरों में तो नहीं नक्ब लगाते अपनी ही कमाई को तो लूटा नहीं जाता औरों के खयालात की लेते हैं तलाशी और अपने गरेबान में झांका नहीं जाता - मुजफ्फर वारसी
Reply Retweet Like
Virag Gupta Apr 10
पर के अहम फैसले के बाद नेताओं की बयानबाजी तेज हो गई है, परन्तु आखिरी फैसला तो अभी आना बाकी है. कोर्ट के फैसले में प्रेस की आजादी, न्यायिक सिस्टम और जनहित के अनेक पहलुओं पर विस्तार से जिक्र है. रात 8 बजे के साथ
Reply Retweet Like