Tushar Narula Nov 14
कोई दुआ का दीपक लेकर बैठा है तो कोई उम्मीद का, दोनों को बस इंतज़ार अपने बच्चों के दीद का।