Takhatiya-तख्तियाँ Jul 15
राह के पत्थर से बढ के, कुछ नहीं हैं मंजिलें रास्ते आवाज़ देते हैं, सफ़र जारी रखो ~डॉ. राहत इन्दोरी ♥️