Twitter | Search | |
Sufi Singer Sonal
A Sufi Singer , Poetry lover M.A.( music).GOLD MEDALIST. National Award 'Sur-Mani' for Vocal music. Can read and write Urdu. Contact- +91-9925044379
1,141
Tweets
26
Following
221
Followers
Tweets
Sufi Singer Sonal May 18
Replying to @Greg_Kessler
Reply Retweet Like
Sufi Singer Sonal May 18
Replying to @FaruquiMurtuza
waah
Reply Retweet Like
Sufi Singer Sonal May 17
cool village effect in summers 😍
Reply Retweet Like
Sufi Singer Sonal retweeted
Akanksha May 16
रात की तुम रूदाद न पूछो, रात बड़ी बेचैन गई बिजली जैसी याद तेरी, आती भी रही, जाती भी रही
Reply Retweet Like
Sufi Singer Sonal retweeted
गुरु बनारसी May 14
मिरे मौला समेटे कौन किस को यहाँ हर आदमी बिखरा हुआ है ~साबिर शाह साबिर
Reply Retweet Like
Sufi Singer Sonal May 16
Replying to @johar65
waah
Reply Retweet Like
Sufi Singer Sonal retweeted
Shadab Javed May 16
यूँ अचानक जगा गया मुझको ख़्वाब में तेरा अलविदा कहना ©शादाब_जावेद
Reply Retweet Like
Sufi Singer Sonal May 4
Reply Retweet Like
Sufi Singer Sonal Apr 20
Reply Retweet Like
Sufi Singer Sonal Apr 20
Reply Retweet Like
Sufi Singer Sonal Apr 13
Visited Statue of Unity! Some pictures #
Reply Retweet Like
Sufi Singer Sonal Apr 13
Reply Retweet Like
Sufi Singer Sonal Apr 4
मैं ने तो फ़क़त रेत पे इक नाम लिखा था सहरा की हवाओं में है गुलज़ार की ख़ुश्बू
Reply Retweet Like
Sufi Singer Sonal Apr 4
Replying to @guru9899
मैं ने तो फ़क़त रेत पे इक नाम लिखा था सहरा की हवाओं में है गुलज़ार की ख़ुश्बू
Reply Retweet Like
Sufi Singer Sonal Apr 4
Replying to @DeepakChandna3
thnx
Reply Retweet Like
Sufi Singer Sonal Apr 4
उन से सब अपनी अपनी कहते हैं मेरा मतलब अदा करे कोई
Reply Retweet Like
Sufi Singer Sonal Apr 4
अहमद फ़ाख़िर- आँखों में उस की डूब के उभरा नहीं हूँ मैं जिस ने भुला दिया उसे भूला नहीं हूँ मैं
Reply Retweet Like
Sufi Singer Sonal Apr 4
Replying to @guru9899
अहमद फ़ाख़िर- आँखों में उस की डूब के उभरा नहीं हूँ मैं जिस ने भुला दिया उसे भूला नहीं हूँ मैं
Reply Retweet Like
Sufi Singer Sonal Apr 4
साक़ी घटा है सेहन-ए-चमन है बहार है अब कार-ए-ख़ैर में तुझे क्या इंतिज़ार है
Reply Retweet Like
Sufi Singer Sonal Apr 4
सलाम संदेलवी- गुल-ओ-ग़ुंचा अस्ल में हैं तिरी गुफ़्तुगू की शक्लें कभी खुल के बात कह दी कभी कर दिया इशारा
Reply Retweet Like