Twitter | Search | |
ravish kumar
देखना शौक़ है। घोर पारिवारिक। अंग्रेज़ी नहीं आती । माइक्रो फिक्शन लेखक । किताब: इश्क में शहर होना । मेरा ब्लाग है, हैंडल है ।
45,093
Tweets
723
Following
894,825
Followers
Tweets
ravish kumar Feb 20
Replying to @LivelawH
@
Reply Retweet Like
ravish kumar 22 Aug 15
Replying to @IndianUnderDog
@RamadheerSpeaks फैज़ल दिल पे न लगे तो दिल नहीं रह जाता
Reply Retweet Like
ravish kumar 22 Aug 15
मैं नवाज़ का बंदानवाज़ हो गया हूँ । सोमवार को छुट्टी लेकर माँझी देख आइये । कभी कभी सिनेमा देखने के साथ उसे सम्मान भी देना चाहिए ।
Reply Retweet Like
ravish kumar 22 Aug 15
Replying to @ReemaKumar4
सावधान विश्राम होगा
Reply Retweet Like
ravish kumar 22 Aug 15
Replying to @OOs619
सही बात है कि मेरा अब उसमें भी मन नहीं लगता लेकिन करना तो पड़ेगा ।
Reply Retweet Like
ravish kumar 22 Aug 15
पढ़ना चाहिए । वरना आदमी खुद से थकने लगता है
Reply Retweet Like
ravish kumar 22 Aug 15
Replying to @twiterManish_
सब फ़र्ज़ी वाला है । आप भी खुद से बना लीजिये !
Reply Retweet Like
ravish kumar 22 Aug 15
Replying to @anilkori92
नई चीज़ें लेकर आऊँगा
Reply Retweet Like
ravish kumar 22 Aug 15
Replying to @i_ceraunophile
@prateek_pursues ये सही है । आप लोगों से ताकत और समझ दोनों मिलती है ।
Reply Retweet Like
ravish kumar 22 Aug 15
Replying to @mannu209
चार किताबें हैं । अब उनको ख़त्म करना ही है । पढ़ने के लिए कब से बेचैन हूँ
Reply Retweet Like
ravish kumar 22 Aug 15
Replying to @PraveenaLeo @AmTrehan
ग़ज़ब हैं आप लोग भाई
Reply Retweet Like
ravish kumar 22 Aug 15
Replying to @rAKESH_BHUMIHAR
विदेश नीति एक निरंतरता में चलती है पर इसका मतलब यह नहीं कि इसमें बदलाव न हों । अच्छे बदलाव हुए हैं इस सरकार में
Reply Retweet Like
ravish kumar 22 Aug 15
Replying to @wmukeshp
हमारे प्रदेश में जो जाती है वो जाता है !
Reply Retweet Like
ravish kumar 22 Aug 15
Replying to @abhishekpreetam
आदत है सबको पढ़ने और जवाब देने की । इससे जिंदगी पर बहुत असर पड़ रहा है दोस्त
Reply Retweet Like
ravish kumar 22 Aug 15
Replying to @sinhatwosides
अपना हिसाब नहीं देते हैं । दो साल से ये तरीका चल रहा है राजनीतिक दल की तरफ से । हद हो गई है
Reply Retweet Like