Twitter | Search | |
बस नाम के बैंकर
Software...Banker... Software Engineer... Accidental Banker... यहां दी गई प्रतिक्रियाएं मेरे निजी विचार हैं । इसका किसी भी संस्था से कोई संबंध नहीं है।
1,272
Tweets
286
Following
310
Followers
Tweets
बस नाम के बैंकर Sep 26
Dis is how private finance companies r serving their customers. Same old culture of ZAMINDARI is back in avtar of private finance companies. Shame on
Reply Retweet Like
बस नाम के बैंकर retweeted
United Forum of Bank Unions | #StayHome #StaySafe Sep 26
Yes is our Prime & Main Agenda but is seriously not heeding to our plea. We are trying our best for them interest of our comrades considering the banking needs and customer service in mind. We are hopeful it will be done soon.
Reply Retweet Like
बस नाम के बैंकर retweeted
Pragya Tiwari Sep 10
BPCL,BSNL ,MTNL and now SBI is offering their employees to opt VRS But why? Is it fair with the employees who have given 10-15 glorious yrs of their life to that organisation and when they need them the most,they are leaving them We r already dealing wid unemployment
Reply Retweet Like
बस नाम के बैंकर Sep 11
Reply Retweet Like
बस नाम के बैंकर retweeted
Bauji Sep 10
किसान दुखी हैं, छात्र दुखी हैं, सैलरीड क्लास दुखी है, अच्छे दिन किसके आयी भाई?
Reply Retweet Like
बस नाम के बैंकर retweeted
Amit-Shreya_Kapoor Sep 8
See in front of police, how goons r threatening branch manager.... This one more laurel in the effort of to provide security & condusive environment for 5 trillion economy.
Reply Retweet Like
बस नाम के बैंकर retweeted
WhiteCollarMazdoor Sep 8
कैबिनेट वित्तमंत्री भगवान भरोसे बैठी हैं। वित्त राज्य मंत्री सस्ती लोकप्रियता के लिए ट्विटर पे चेकबुक बंटवा रहे हैं। आत्ममुग्ध प्रधान सेवक जी मोर खिला रहे हैं। DFS वाले KBC खेल रहे हैं। RBI खुद अपनी इज्जत बचाने में लगा है। बैंकर पिट रहे हैं। मेजर बक्शी बड़े याद आ रहे हैं आज।
Reply Retweet Like
बस नाम के बैंकर Sep 9
Ek or economist paida Kr diya COVID pandemic ne.
Reply Retweet Like
बस नाम के बैंकर retweeted
Ram Shankar Singh Sep 7
सुशांत को किसने मारा? आरुषि कैसी मरी? सुनंदा कैसे ऊपर चली गई ? ये सब जानना चाहते हैं👆 पर हजारों बैंककर्मी क्यूँ और किस दवाब में फाँसी के फंदे पर झूल गए...ये कोई कोई नहीं जानना चाहता? क्यूँ पर? 👇ये एक सैंपल है
Reply Retweet Like
बस नाम के बैंकर retweeted
Newton Bank Kumar Sep 3
IDBI - Started as Industrial Development Bank of India IDBI - ended as Industrialist Development Bank of India Corporate NPA destroyed Bank, Now Same Corporates who look loan, mismanaged funds, failed Business, will be buying Bank stakes.
Reply Retweet Like
बस नाम के बैंकर retweeted
वैभव: खेती-किसानी वाला बँकर Sep 2
After Bank Of India Sahoor, this is 2nd incidence in Wardha District. Attack on bankers in Canara Bank Wardha... and tragedy is that the police has registered FIR against Branch staffs
Reply Retweet Like
बस नाम के बैंकर Sep 3
Comman man is suffering everywhere. RAVAN RAJ is coming soon.... This is what is expected from a patriotic, tolerant SARKAR n it's representative.
Reply Retweet Like
बस नाम के बैंकर retweeted
Dr Gaurav Garg Sep 3
अनपढ नेता घूम रहे हैं महंगी महंगी कारों में डिग्री लेकर रिक्शा खींचे आज युवा बाजारों में
Reply Retweet Like
बस नाम के बैंकर retweeted
Bauji Sep 3
Dear Please take action against the Culprit under 332, 353 and other relevant Section of IPC. Kindly take cognizance of this case.
Reply Retweet Like
बस नाम के बैंकर Sep 3
This is what u get for doing all JAN-DHAN stuffn performing duty in COVID era without fail.
Reply Retweet Like
बस नाम के बैंकर retweeted
Realjitendra bechara banker Aug 31
ये है बैंको में भीड़ बीमा करवाने के लिए साला सारा काम करे बैंक और बीमा का पैसा दे बीमा कंपनी को। क्यों नही ये बीमा कंपनियां खुद ये काम करती हैं कब तक हम यूँही मरते रहेंगे। कल बहुत सारी शाखाये देर तक खुली रही इस काम के लिए।
Reply Retweet Like
बस नाम के बैंकर retweeted
Amritansh Mukesh Aug 31
कितना भी Trend करा लो, Dislike करा लो, अब बीजेपी सरकार को कोई फर्क नहीं पड़ता है, पूर्ण बहुमत की सरकारें तानाशाह होती हैं
Reply Retweet Like
बस नाम के बैंकर retweeted
Gramin Bankers Aug 25
मित्रो, मैं छपी ये खबर देखिये... इस खबर को पढ़ कर कोई भी ऐसे अमानवीय बैंकर्स के प्रति घृणा से भर जाएगा... लेकिन आप अपनी राय बनाने से पहले एक बार इसके पीछे की सच्चाई जान लीजिए, की प्रभात खबर द्वारा खबर छापने से पहले कितनी गम्भीर लापरवाही की गई है...
Reply Retweet Like
बस नाम के बैंकर Aug 22
Replying to @idesibanda
जब पूरा तन्त्र ही Pvt Ltd हो तो ये तो होना तय है । अब जनता जनार्दन को निर्णय करना है कि उन्हें क्या चाहिए। सड़कों पर उतरना ही एक मात्र विकल्प।
Reply Retweet Like
बस नाम के बैंकर Aug 22
Replying to @UFBUIndia
दिल के खुश रखने को ग़ालिब ये खयाल अच्छा है No further comments.
Reply Retweet Like