Twitter | Search | |
Om Birla
समाज में ब्राह्मणों का हमेशा से उच्च स्थान रहा है। यह स्थान उनकी त्याग, तपस्या का परिणाम है। यही वजह है कि ब्राह्मण समाज हमेशा से मार्गदर्शक की भूमिका में रहा है।
Reply Retweet Like More
Sandeep Mittal, IPS Sep 10
Replying to @ombirlakota
यास्क मुनि के अनुसार ब्राह्मण कौन ? जन्मना जायते शूद्रः संस्कारात् भवेत द्विजः। वेद पाठात् भवेत्विप्रःब्रह्म जानातीति ब्राह्मणः।। अर्थात – व्यक्ति जन्मतः शूद्र है। संस्कार से वह द्विज बन सकता है।वेदों के पठन-पाठन से विप्र हो सकता है। किंतु जो ब्रह्म को जानले,वही ब्राह्मण है।
Reply Retweet Like
Sandeep Mittal, IPS Sep 10
Replying to @ombirlakota
महर्षि मनु के अनुसार विधाता शासिता वक्ता मो ब्राह्मण उच्यते। तस्मै नाकुशलं ब्रूयान्न शुष्कां गिरमीरयेत्॥ अर्थात-शास्त्रो का रचयिता तथा सत्कर्मों का अनुष्ठान करने वाला,शिष्यादि की ताडनकर्ता,वेदादि का वक्ता और सर्व प्राणियों कीहितकामना करने वाला ब्राह्मण कहलाता है।
Reply Retweet Like
Sandeep Mittal, IPS Sep 10
Replying to @ombirlakota
जो आत्मा के द्वैत भाव से युक्त ना हो; जाति गुण और क्रिया से भीयुक्त न हो; षड उर्मियों और षड भावों आदि समस्त दोषों से मुक्तहो; सत्य, ज्ञान, आनंद स्वरुप, स्वयं निर्विकल्प स्थिति में रहने वाला ,अशेष कल्पों का आधार रूप , समस्त प्राणियों के अंतस में निवासकरने वाला , वही ब्राह्मण है;
Reply Retweet Like
Sandeep Mittal, IPS Sep 10
Replying to @ombirlakota
जो अन्दर-बाहर आकाशवत संव्याप्त ; अखंड आनंद्वान ,अप्रमेय, अनुभवगम्य; काम-रागद्वेष आदि दोषों से रहित होकर कृतार्थ हो जाने वाला ; शम-दमआदि से संपन्न ; मात्सर्य , तृष्णा , आशा,मोह आदि भावों से रहित;दंभ, अहंकार आदि दोषों से चित्त को सर्वथा अलग रखने वाला हो,वही ब्राह्मण है।
Reply Retweet Like
Sandeep Mittal, IPS Sep 10
Replying to @ombirlakota
अर्थात जाति का ब्राह्यमण से कुछ लेना नहीं है।
Reply Retweet Like
Sandeep Mittal, IPS Sep 10
Replying to @ombirlakota
Read for more Details:
Reply Retweet Like
kumar Sandeep Sep 10
Replying to @ombirlakota
ये आपकी अज्ञानता है मेरी नजर में फिर क्या कारण है जो इस देश का संविधान लिखने में वो सर्वोच्च ब्राह्मण असमर्थ थे। भारत देश की आजादी के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाली सैनानी जिनका ना दिल्ली में स्थित india Gate पर नाम दर्ज है उनमें कितने लोग ब्राह्मण है।
Reply Retweet Like
दीपक भारद्वाज Sep 10
अबे नमूने हर दूसरे क्रांतिकारी का इतिहास उठाएगा ना वो ब्राह्मण होगा कोरेगांव के गद्दारों 200 साल तक अंग्रेजो के कपड़े धोने के लिए ही तो धोखा दिया था तुम लोगों ने और हां एक तथ्य ऐसा बता दे जिसमे साबित होता हो कि अंबेडकर ने स्वतंत्र होने के लिए कोई धरना भी दिया हो😂😂
Reply Retweet Like
Naveen Khanagwal Sep 10
ये भी बहुत अजीब होते हैं ,पड़ोसियों के बच्चों की नौकरी न लगने का कारण "ग्रह दोष" बताते हैं और खुद के बच्चों की नौकरी न मिलने का कारण बताते हैं।
Reply Retweet Like
vaibhav Sep 10
Replying to @KhanagwalNaveen
हा तो पड़ोसी के बच्चे के लिए ५०% सीट रिजर्व होता है फिर भी नौकरी नहीं लगता तब वह ब्राह्मण के पास जाता है
Reply Retweet Like
ऐड0 यादव जी, मूलनिवासी/घोषित शुद्र /पिछड़ा Sep 9
Replying to @ombirlakota
Reply Retweet Like
Dr. Vijai Shanker Tiwari Sep 10
Replying to @Anandmha @ombirlakota
अनपढ़ जैसी बात न कर भाई बाबा साहब को किसने पढ़ाया किसने बैरिस्टर बनाया किसने मंत्री बनाया किसने संविधान सभा की ड्राफ्टिंग कमेटी में रखा सब मनुस्मृति वाले थे यकीन न हो तो बहिनजी से पूंछ लो । आज जो कोई जहां भी ऊंची जगह पर है तो श्री मनु जी के कारण श्री मनुस्मृति की जय हो.
Reply Retweet Like
संदीप पाण्डेय Sep 11
Bhai inse puchho ki Mulayam se Mayawati Ko bachane wale bhi Brahman hi the
Reply Retweet Like
Ramapati Kumar Sep 9
Replying to @ombirlakota
राम क्या ब्राह्मण थे? क्या कृष्ण ब्राह्मण थे? क्या सम्राट अशोक ब्राह्मण थे? क्या गुप्त राजा ब्राह्मण थे? यदि नहीं, तो ब्राह्मण कब होने लगे ऊँच स्थान वाले?
Reply Retweet Like
Brijkishor Tiwary Sep 10
राम के गुरु ब्राह्मण थे, कृष्णा के गुरु ब्राह्मण थे, अशोक के गुरु ब्राह्मण थे गुप्त के गुरु ब्राह्मण थे और सुनिए गुरु का स्थान क्या होता है थोड़ा अध्ययन कर ले...
Reply Retweet Like
Leelan Gehlot Sep 10
तेरी जात की पैदा मारू...ध्रुत ब्राह्मण
Reply Retweet Like
विशाल पंडित Sep 10
तेरी आमी को 7 हजार जन्म लग जाएंगे जात की पैदा मारने मैं
Reply Retweet Like
विशाल पंडित Sep 11
तुम लोग साले आरक्षण की खेरातो पर जिंदा हो हमारी बराबरी अगली दुनिया मे करना अभी तो ना मुमकिन है दम है तो आरक्षण हठा के देख ले सालो तुम्हारा नंबर कहि दूर दूर तक नही दिखेगा
Reply Retweet Like
Ramapati Kumar Sep 11
मंदिरों में जैसे तुमलोग फावड़ा लेकर खेती करते हो और अपना पेट पालते हो। मंदिरों का खैरात कब छोड़ रहे हो?
Reply Retweet Like
विशाल पंडित Sep 11
विदेशी होगी तेरी अम्मा
Reply Retweet Like
Leelan Gehlot Sep 11
ब्राम्हण अगर विदेशी नहीं है तो सफाई क्यों देता फिर रहा है बे??🤔
Reply Retweet Like