Yogi Adityanath Jul 16
गुरु पूर्णिमा से ही सावन (श्रावण) मास प्रारम्भ हो जाता है, जिसमें बड़ी संख्या में श्रद्धालु कांवड़- यात्रा करते हैं। यह यात्रा भगवान भोलेनाथ के प्रति असीम भक्ति के साथ ही धैर्य, शुचिता, समर्पण और साहस का भी प्रतीक है। सभी कांवड़ियों की यात्रा मंगलमय हो, ऐसी कामना करता हूँ।