Twitter | Search | |
momspresso.com
Momspresso provides finely brewed content for the multi-faceted Mom consisting of blogs and videos in English and 7 Indian languages. Instagram
50,742
Tweets
520
Following
4,673
Followers
Tweets
momspresso.com 29m
मम्मा, देखो आज मेरी ड्रॉइंग कापी में मैंने 'माई फेमिली' ड्रॉ किया है। पापा, मम्मा और मैं,देखो ना प्लीज एक बार, अभी नहीं, ईशान मैं कुछ जरूरी काम कर रही हूँ। ईशा ने ऊँची आवाज में अपने फोन में देखते हुये कहा। वो फोन पर अपनी दोस्त से बात कर रही थी।
Reply Retweet Like
momspresso.com 34m
'Here are a few delicious overnight oats recipes which are inspired by desserts.' Read On...
Reply Retweet Like
momspresso.com 1h
उस औरत से कोई सबंध नहीं रखेगा, यदि वो बीमार हुई तो किसी को उस पर दया भी नहीं आनी चाहिए, उसे कोई दवा भी नहीं देगा, बेचारी कभी ना कभी तो मरेगी, पर जिस दिन मरेगी, कोई उसे दो गज जमीन भी नहीं देगा कब्र के लिए, कोई उसे चार कंधे भी नहीं देगा।
Reply Retweet Like
momspresso.com 2h
‘Mountains seemed like places of magic. The sun spreading itself on the skin of the white hills- sharp and bright. A sight to behold! Huge rocks rising high- that's what they are. So it made me cry. The magic of the mountain.'
Reply Retweet Like
momspresso.com 2h
अनुराग बाहर आओ, (अनुराग के पिता जगदीश रॉय गुस्से से आवाज़ दे कर बुला रहे थे।) अनुराग, रात शराब के नशे में धुत सोया था और सुबह की नींद के आगोश में था, जिसकी वजह से उसकी आँखें नहीं खुल रही थी।
Reply Retweet Like
momspresso.com 3h
Parents are always thinking of ways to keep tabs on their children. This mom came up with a fab idea that is part genius and part hilarious!
Reply Retweet Like
momspresso.com 3h
प्रीति जी मेरी सीनियर थीं। बला की खूबसूरत, हंसमुख, बहुमुखी प्रतिभा से संपन्न .... इंग्लिश तो वो फर्राटेदार बोलतीं थीं कि अंग्रेज भी घबरा जाएं। उनके व्यक्तिव के आगे मैं अक्सर असहज हो जाती थीं। उन्हें भी खबर थी कि मैं गोवा जा रही हूं।
Reply Retweet Like
momspresso.com 4h
Traveling through distances and time zones teaches our children adaptability, and going to unfamiliar places teaches them tolerance for ambiguity, all necessary life skills in my opinion.
Reply Retweet Like
momspresso.com 4h
पन्द्रह साल हो गये। मुझे वह गलती किए हुए। पन्द्रह साल से हर साल इसी दिन यहां आकर अपनी गलती का प्रायश्चित करती हूं। आप प्रभू इतने निष्ठुर कैसे हो सकते हैं। परिवार में सभी मुझे बांझ कह कर ताना मारते रहते हैं।
Reply Retweet Like
momspresso.com 5h
Loveena shares a few useful monsoon mantras. Read On...
Reply Retweet Like
momspresso.com 5h
शशि, जैसा नाम वैसा ही व्यक्तिव है उसका, हमेशा शांत और सरल रहना, अपने माता पिता की हर बात मानना और छोटी बहनों की हर शरारत और गलतियों पर पर्दा डालना।
Reply Retweet Like
momspresso.com 6h
‘I have been judged. Many times. Some words come to me through the human broadcasting network and some the wind carries. I am not against advices. We need them. But at times.’
Reply Retweet Like
momspresso.com 6h
‘Two days after my wedding,my husband hit should have come across as a shock but it didn't,because I was conditioned to lead a miserable life.I could not muster the courage to stand up against wrong!’
Reply Retweet Like
momspresso.com 6h
'It is with a heavy heart that I must say goodbye to my baby. The one that fit in the nook of my arm so perfectly that I didn’t want to move. The baby that introduced me to a dimension of this world that I didn’t know existed. Until him.'
Reply Retweet Like
momspresso.com 6h
It is said that miscarriage is the most forlorn grief for a woman and its aftermath a heart-shattering emotional ride. This woman who suffered a miscarriage eventually found her succour in a lifelike doll.
Reply Retweet Like
momspresso.com 6h
अक्सर पेरेंट्स अपने बच्चे को नंबर 1 की कुर्सी पर बैठे देखना चाहते हैं, इसके लिए कहीं न कहीं वह उनके ऊपर पढ़ाई का दबाव भी बनाते हैं। लेकिन, पेरेंट्स यह भूल जाते हैं कि बच्चे का जब मन होगा तभी वह पढ़ाई करेंगें।
Reply Retweet Like
momspresso.com 7h
'What would raising kids be like thirty years hence, basically when our kids became parents? So behold as I bring to you a concoction of scenarios that depict parenting in the year 2048, thirty years from now.' Read On...
Reply Retweet Like
momspresso.com 7h
जैसे-जैसे घड़ी की सुइयां बढ़ रही थी, वैसे वैसे मेरे दिल की धड़कन, अभी तो बस सुबह के 8 बजे थे और आगे था पूरे 34 घंटे का इंतजार। 10 जून को यानि कि कल मेरे जन्मदिन की रात 8 बजे मुझे छवि से मिलने जो जाना था।
Reply Retweet Like
momspresso.com 7h
पिछले कई दिनों से ममता काफी व्यस्त थी।सुबह की साफ सफाई ,बच्चों को स्कूल, पति को ऑफिस भेजने के बाद अपने फेवरिट गाने लगाती और थिरकने लगती। डांस उसे शुरू से ही पसंद था लेकिन धीरे-धीरे उसकी फ़ेवरिट हाॅबी डासिंग ही हो गई।
Reply Retweet Like
momspresso.com 8h
‘The first year of marriage is what I will fondly remember as being the most romantic period of my life. I was in love with my new role of a "wife" and was enthusiastic to do my best.’
Reply Retweet Like