Twitter | Search | |
Search Refresh
Laxmi N Sharma 5h
Replying to @kavita_krishnan
show him some love! Why drag your . He demand to you. You give to love. Because spread love and love, love and love, love and love. Ever ever
Reply Retweet Like
Ramakrishna Reddy Dosada Nov 16
Replying to @rkreddy_d
By the way, is of 's ? (Either directly or indirectly, i mean binami)
Reply Retweet Like
Dhyanaratna Nanda Nov 17
Real way to Transformation of Self.. Congratulations Kavitha Madam..!!
Reply Retweet Like
TaxPayer Ayan Nov 19
Replying to @actresskavita
If mornings are this beautiful then u don't need much in life Queen ♥️🖤
Reply Retweet Like
Anupam Dhyani Nov 12
NEW POEM : link in Bio. Even before the came into existence, this was created!! @pankajtripathiii
Reply Retweet Like
Gargi_9 Nov 16
Reply Retweet Like
HarRin Nov 11
Replying to @honeyviscous
Awesome,,,,!!! 👌
Reply Retweet Like
YOGI 🇮🇳 Nov 14
Go through the thread... Interesting read
Reply Retweet Like
Pradeep singh Nov 14
Thankful Thursday!! Lines delineating how one should live his life. हम दीवानों की क्या हस्ती, आज यहाँ कल वहाँ चले.. मस्ती का आलम साथ चला, हम धूल उड़ाते जहाँ चले !!
Reply Retweet Like
Aditi Sharma Nov 16
गलती करना बुरा नहीं है। गलती से सीख लेना बुरा है।
Reply Retweet Like
A.R. David's Diary Nov 19
Reply Retweet Like
ललित श्रीवास्तव{राष्ट्रवादी पत्रकार}💯 Follow back Nov 18
भैया की प्यारी बिटिया हमारी भतीजी के लिए लिखे गई मनमोहक कविता💐
Reply Retweet Like
Neel Padam Nov 15
ओ माँ! via Please oblige with your valuable comments on my poem
Reply Retweet Like
‎Arshi Alvi  علوی/‏‎ عرشی 7h
नफरतों का असर देखो,जानवरों का बटवारा हो गया, गाय हिंदू और बकरा मुसलमान हो गया। ये पेड़,ये पत्ते,ये शाखें भी परेशान हो जाएं, अगर परिंदे भी हिंदु और मुसलमान हो जाएं। सूखे मेवे भी ये देखकर परेशान हो जाएं, ना जाने कब नारियल हिंदु,खजूर मुसलमान हो जाएं,
Reply Retweet Like
Anil Chavda 10h
Reply Retweet Like
Pradeep singh Nov 16
An excerpt from the epic creation of Maithilisharan Gupt ji. नर हो, न निराश करो मन को कुछ काम करो, कुछ काम करो जग में रह कर कुछ नाम करो यह जन्म हुआ किस अर्थ अहो समझो जिसमें यह व्यर्थ न हो कुछ तो उपयुक्त करो तन को नर हो, न निराश करो मन को।
Reply Retweet Like
Anil Chavda Nov 18
Reply Retweet Like
Ashish Bihani Nov 14
हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है झुकने के लिए रेलिंग पहाड़ की नसों पर हम ट्रेकिंग करने जाएंगे वहाँ अगर हमें झुकने की ज़रूरत महसूस होती है तो सरकार को चाहिए कि वो हमें झुकने के लिए रेलिंग दे रेलिंग मिलेगी तो हम चढ़ेंगे पहाड़.
Reply Retweet Like
Gourav Nagar 8h
काम बड़ा कुछ करना है तो, त्याग बड़ा कुछ करना होगा, पहुँचाना गर है प्रकाश तो ,  सूरज जैसे जलना होगा  ।। My new poem "सूरज जैसे जलना होगा"👆👆
Reply Retweet Like
👁‍🗨غزلG͠h͠a͠z͠a͠l͠ Nov 13
Reply Retweet Like