Twitter | Search | |
Search Refresh
nikhil kumar 'नमन' Feb 20
Reply Retweet Like
Piyush Sharma Apr 19
Reply Retweet Like
इश्क़ शर्मा प्यार से 29 Aug 17
Reply Retweet Like
Nasir Tufail~नाहिद May 25
Reply Retweet Like
Nasir Tufail~नाहिद Mar 22
Reply Retweet Like
Aparna Swarup Dec 23
हम से हम ही छिन गये जब से दिखे नैन तिहारे Congratulations Salman Ali and what a treat it has been. Congratulations to the other four as well. It’s just the beginning...
Reply Retweet Like
अजय भंडारी Jul 17
कुरान मे काह लिखा ये माँ को यानी वंदन करना हराम है(?)
Reply Retweet Like
DR. DEVENDRA THAKUR Jul 18
ये तो अपनी अपनी जरूरते करवाती है जनाब ,,, ,,, और में से आजतक को चुना किसने है !!!!
Reply Retweet Like
Aleem Khan #Abbas عباس Dec 16
मेरे मजहब से न तोल वतन से मेरी, भी करता हूँ तो ज़मीन चूमता हूँ मैं |
Reply Retweet Like
Hafsa Fatima Apr 18
जिसको अपने के सामने करने की तौफीक नही हुई उससे बड़ा कोई नही !!
Reply Retweet Like
Alka_Aditi 10 Apr 18
सामने खडे हो मैं कर रही हूँ बडा आ रहा है में किस चीज की कमी है तेरी में।।
Reply Retweet Like
Krishna••• Aug 2
तेरे का ही मेरी का तुम चाहो भर और मै करूँ यही है
Reply Retweet Like
Hafsa Fatima Sep 6
करो से तो बनेगी , बाप की सेवा बनेगी , जब तुम्हारे का तो , बाप की सेवा बनेगी !!
Reply Retweet Like
Anita Vyas 🇮🇳 🙏Nation first Oct 11
भी ना पाए कि हमने क्या कर लिया.. और उनका कर लिया.... 💕💖💖
Reply Retweet Like
Neha Kamboj Jul 10
♥एक 😍 जो ' तेरी दिख जाए,,, 🙏 सो सो बार करू ♥ ♥हर हो जाये दूर का,,,,, से दीदार🙏 करू♥
Reply Retweet Like
Súñítà Pàñdít Jun 2
ॐ नम शिवाये: ______जय परशुराम स्वीकार है मुझे की रोटी से है मुझे, के आलावा करूं मै किसी और का तो जीवन जीना है मुझे.. हर हर जय 🌷सुप्रभात🌷 🌹आपका दिन शुभ हो🌹 !!卐!!⛳जय सियाराम⛳!!卐!!
Reply Retweet Like
Aqib Nasim عاقب نسیم May 29
थोड़ी सी थकावट पर न छोड़ मोमिन, उनसे कुछ सीखो जिन्होंने जिस्म में होते हुए भी आखिरी नहीं छोड़ा....😢 बेशक . . ✍✍
Reply Retweet Like
Anita Vyas 🇮🇳 🙏Nation first May 10
तुमको ..पर अब .. ना करेंगे ... वो मेरा था ...ये मेरी है ... 😏 😏 😏 😏 😏 😏 😏 😏 😏 😏
Reply Retweet Like
Deepak Kulshrestha Mar 27
धुआँ बना के फ़िज़ा में उड़ा दिया मुझको मैं जल रहा था किसी ने बुझा दिया मुझको खड़ा हूँ आज भी रोटी के चार हर्फ़ लिये सवाल ये है किताबों ने क्या दिया मुझको सफ़ेद संग की चादर लपेट कर मुझ पर फ़सिल-ए-शहर में किसने सजा दिया मुझको 1/2
Reply Retweet Like
Priya 🇮🇳🔱🔥🔱 Jan 29
🍂🏵️🍂 तुमसे की होती.... तो शायद भुला भी देती... सांवरे की है तेरी मरते दम तक करूगी..... 🍂🏵️🍂 🍁 🙏🙏 😘
Reply Retweet Like