Twitter | Search | |
Search Refresh
❤️पूजा❤️मौर्या Jun 25
मांगने पर जहाँ पूरी हर मन्नत होती है के पैरों में ही तो वो होती है लबों पे उसके कभी नहीं होती बस एक है जो मुझसे ख़फ़ा नहीं होती 🙏🙏शुप्रभात शुभ बन्दन🙏🙏
Reply Retweet Like
pbhagat121@hotmail.com Jun 23
Replying to @_docboy @ANI
पाकिस्तान इराक ईरान अफगानिस्तान सीरिया तुर्की फिलीस्तीन सउदी अरब जैसे देशों में तो है ही नहीं फिर ये देश तो क्यों नहीं सीरिया में वहीं के नागरिक ,वहीं के स्व नागरिकों द्वारा मारे जा रहे है क्यों ? वहां तो काफिर नहीं फिर इस्लाम में बताया नहीं गया कि क्यों मारो 🤔
Reply Retweet Like
Anish Rai Jun 25
Replying to @Nationalist_Om
ऐसे लोगों को सीधे पहुँचाना चाहिये। तब इबादत पिछवाड़े से निकल जायेगी। अजीब बेवकूफियत है, हरामीपन्ति का भी हद्द होता है।
Reply Retweet Like
Brijwasi Jun 23
बेटियाँ हैं की खिड़कियाँ
Reply Retweet Like
विनय_आजाद Jun 23
मेरी दुनिया में जन्नत है अभी तक ........ Read my thoughts on YourQuote app at
Reply Retweet Like
Rajendra Deore Jun 20
नवरत्न..लावा..डायरेक्ट बेडच्या खाली..😂स्वार्गात नाय ..डायरेक्ट मध्ये🙈😂😂ती खरी रात्रं..😊
Reply Retweet Like
जय माँ कालीवाह सीतावाह सी इटावा यूपी भारत Jun 22
सत सत्य केवल कड़ुवा होता है जो हर ऐक को भरपूर मालूम है? कहीं भी जन्नत दोजख नहीं हैं लेकिन गोया भाषण में जैसे पेली जाती है वैसे ही जबरदस्ती का स्लोपॉईजंन पेला गया? क्या आप लोग में ही हैं?
Reply Retweet Like
GOPI CHAWLA Jun 18
Replying to @zah_e_naseeb
खत्म नहीं होती की साहब के बाद भी मांगता है……!!
Reply Retweet Like
प्रखर तिवारी Jun 21
💕 की उन्हे होती है जिन्हे की होती है💕 💕 तो शुरू और.... पर ही होती है💕
Reply Retweet Like
🌷मौर्य वंशी 🌷दीप्ति 🌷 Jun 22
जानी 🙋 ✌करोगे तो 🌁 का 👀 नजारा 😇पाओगे , 👊 😠 तो खुद 👦की 🙎 भी 😂 देख 👍पाओगे l Good noon Friends 😘😘🌹
Reply Retweet Like
Baleegh Khan Jun 22
Very Good Morning to u.💋 फसल और वसल का हासिल कोई हमसे पुछे यहीं यहीं दौज़ख़ सै तुमहे क्या मालूम
Reply Retweet Like
The civilian 👨 man Jun 24
कोई का तालिब है,कोई से परेशाँ है. ग़रज कराती है, कौन करता है. Good morning friends.
Reply Retweet Like
Harish Singh Jun 24
मुस्लिम समुदाय में तो सबसे ज्यादा और के आधार पर के सपने को इनके और साहब लोग ही साकार करते हैं, और अब हमारे देश के ही इनको में की सैर करा रहे हैं,
Reply Retweet Like
®️✍️ Jun 23
के का दुखा कर मनाने की है के को दोज़ख़ कमाने की है
Reply Retweet Like
Shankarpal Mali Jun 25
होती है ! जब तक जिंदा होते है !! friends a good 🙏🙏🙏🙏🚩🚩🚩
Reply Retweet Like
🇮🇳 अमायरा 🇮🇳 Jun 25
अगर में 72 हूर और 36 मिलते तो सबसे पहले मौलवी मरते पर इतनी छोटी सी बात इन छापों को समझ नहीं आती कि किसी को मरने से नहीं मिलती।
Reply Retweet Like
M.j. Khan Jun 22
😌 ☝️ 🌍 पर भी , ☝️ 💑 करके तो 👀 l l 😊 M.J.Khan @ Apna Bikaner
Reply Retweet Like
Muskan Rai Jun 20
~~~~ जिंदगी होती है... जब तक माँ-बाप होते है...! ! 🙏🙏
Reply Retweet Like
🌹Jasmira kaur 🌹 Jun 19
लोग चले है को पाने की खातिर को कर दो की 🙏 🙏 💦💦
Reply Retweet Like
S.faruk Jun 19
हम तो कहते हैं हम जमीन को मां नहीं कह सकता क्यू की हमारे मज़हब मे माँ के कदमों मे होती है और हम को कदमों मे नही रखते उसे हम से लगाकर रखते हैं 🇮🇳 जय हिंद 🇮🇳
Reply Retweet Like