Twitter | Search | |
Om Birla Sep 8
समाज में ब्राह्मणों का हमेशा से उच्च स्थान रहा है। यह स्थान उनकी त्याग, तपस्या का परिणाम है। यही वजह है कि ब्राह्मण समाज हमेशा से मार्गदर्शक की भूमिका में रहा है।
Reply Retweet Like
Ramapati Kumar Sep 9
Replying to @ombirlakota
राम क्या ब्राह्मण थे? क्या कृष्ण ब्राह्मण थे? क्या सम्राट अशोक ब्राह्मण थे? क्या गुप्त राजा ब्राह्मण थे? यदि नहीं, तो ब्राह्मण कब होने लगे ऊँच स्थान वाले?
Reply Retweet Like
Brijkishor Tiwary Sep 10
राम के गुरु ब्राह्मण थे, कृष्णा के गुरु ब्राह्मण थे, अशोक के गुरु ब्राह्मण थे गुप्त के गुरु ब्राह्मण थे और सुनिए गुरु का स्थान क्या होता है थोड़ा अध्ययन कर ले...
Reply Retweet Like
Leelan Gehlot Sep 10
तेरी जात की पैदा मारू...ध्रुत ब्राह्मण
Reply Retweet Like
विशाल पंडित Sep 10
तेरी आमी को 7 हजार जन्म लग जाएंगे जात की पैदा मारने मैं
Reply Retweet Like
विशाल पंडित Sep 11
तुम लोग साले आरक्षण की खेरातो पर जिंदा हो हमारी बराबरी अगली दुनिया मे करना अभी तो ना मुमकिन है दम है तो आरक्षण हठा के देख ले सालो तुम्हारा नंबर कहि दूर दूर तक नही दिखेगा
Reply Retweet Like
Ramapati Kumar Sep 11
मंदिरों में जैसे तुमलोग फावड़ा लेकर खेती करते हो और अपना पेट पालते हो। मंदिरों का खैरात कब छोड़ रहे हो?
Reply Retweet Like
विशाल पंडित Sep 11
विदेशी होगी तेरी अम्मा
Reply Retweet Like
Leelan Gehlot
ब्राम्हण अगर विदेशी नहीं है तो सफाई क्यों देता फिर रहा है बे??🤔
Reply Retweet Like More
विशाल पंडित Sep 11
क्यों कि तेरे जैसे चमन चूतियों को समझाना भी तो जरूरी है तू साले दलित है ही नही अरे मूर्ख दलित वो जाती है जिसने मुसलमानों के सामने अपने सीस कटवा लिए थे लेकिन हिन्दू धर्म नही छोड़ा वो महान दलित है तू जैसे कि वजह से वो लोग भी रोते होंगे तो दलित कहने लायक भी नही है
Reply Retweet Like
विशाल पंडित Sep 11
चमन चूतिए इतिहाश जरा ठंग से पढले
Reply Retweet Like
विशाल पंडित Sep 11
वही इतिहाश जो दलितों ने अंग्रेजो के साथ मिल कर भारत पर आक्रमण क्या था तभी एस्टइंडिया कंपनी की सुरुवात हुए और भारत देश 200 साल गुलाम रहा
Reply Retweet Like
Gyanchandra Bhartiya Sep 25
Right dost
Reply Retweet Like