Twitter | Search | |
Dilip Mandal
Journalist, Former Managing Editor, India Today. Author of bestsellers like 'Media ka Underworld' and 'Corporate Media: Dalal Street.' Jai Phule, Jai Bhim.
7,061
Tweets
2,666
Following
31,182
Followers
Tweets
Dilip Mandal 4h
किस एक सबसे बड़े मुद्दे पर लड़ा जाएगा अगले महीने शुरू हो रहा लोकसभा चुनाव।
Reply Retweet Like
Dilip Mandal 8h
मुलायम सिंह के बयान को राजनीतिक शिष्टाचार कहकर खारिज नहीं किया जा सकता. कल्पना कीजिए कि क्या नरेंद्र मोदी राहुल गांधी को ये कहेंगे कि ‘आप अच्छा काम कर रहे हैं. आप सबको साथ लेकर चलते हैं. मैं चाहता हूं कि आप देश का प्रधानमंत्री बनें.’
Reply Retweet Like
Dilip Mandal 11h
आजादी का हर किसी को बराबर लाभ नहीं हुआ. एक समुदाय ने ज्यादा खा लिया. बाकी लोग भूखे रह गए.
Reply Retweet Like
Dilip Mandal 11h
पुलवामा के शहीदों की तेरहवीं होने से पहले नरेंद्र मोदी 10 चुनानी रैली, 5 उद्घाटन, दो चुनावी गठबंधन और दो विदेशी अतिथियों का हंस-हंस कर स्वागत कर चुके हैं. देश से बड़ी पार्टी, पार्टी से बड़ा व्यक्ति. वाह मोदी जी वाह.
Reply Retweet Like
Dilip Mandal 12h
The first of its kind, the survey found that the caste system had indeed penetrated south Asian life in America. Reports Kenneth J. Cooper.
Reply Retweet Like
Dilip Mandal 12h
जब धन और संपत्ति कुछेक व्यक्तियों के पास एकत्रित हो जाती है, तो उनकी आने वाली पीढ़ियां आमदनी के लिए, उस संपत्ति पर मिलने वाले किराया ब्याज पर निर्भर हो जाती है, जिससे वो कोई नया इन्वेस्टमेंट नहीं करतीं. इन्वेस्टमेंट नहीं होगा, तो नयी नौकरियां नहीं होगी.
Reply Retweet Like
Dilip Mandal 13h
ये सहीू है कि सवर्ण भारत में अल्पसंख्यक हैं. लेकिन उनका इस हद तक तुष्टिकरण कहां तक उचित है?
Reply Retweet Like
Dilip Mandal 14h
नामवर सिंह की परंपरा दूसरी परंपरा नहीं है। वह शुक्ल परंपरा के अंदर का अंतर्विरोध है। दूसरी परंपरा ओम प्रकाश वाल्मीकि और उत्तरकालीन राजेंद्र यादव से औपचारिक रूप से शुरू होती है। नामवर को अलविदा।
Reply Retweet Like
Dilip Mandal 15h
जो आग तेरे दिल में है, वही आग मेरे दिल में है। वाह मोदी जी वाह।
Reply Retweet Like
Dilip Mandal Feb 19
इंडियन एयर फ़ोर्स की पहली महिला फ़्लाइट इंजीनियर हिना जायसवाल और उनके परिवार को बधाई । पुरुषों के एक और एक्सक्लूसिव क्लब का दरवाज़ा टूटा। जय सावित्री, जय फ़ातिमा।
Reply Retweet Like
Dilip Mandal retweeted
Tejashwi Yadav Feb 19
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मुज़फ़्फ़रपुर बलात्कार कांड में स्पष्ट और सीधे रूप से संलिप्त है क्योंकि इन्होंने TISS की रिपोर्ट आने के दो महीनों तक ब्रजेश ठाकुर पर FIR नहीं होने दी।जेल नहीं भेजा। दबाव में भेजा तो जेल में मोबाइल समेत तमाम सुविधाएँ प्रदान की।बच्चियों को ग़ायब किया गया।
Reply Retweet Like
Dilip Mandal retweeted
Tejashwi Yadav Feb 19
मुख्य अभियुक्त ब्रजेश ठाकुर से जेल में चर्चित डायरी बरामद हुई थी जिसमें "पटना वाले बड़े सर” का ज़िक्र था? क्या CBI ने खोज लिया था वह “पटना वाला बड़ा सर” कौन है? क्या CBI जाँच की आँच उस “बड़े सर” के पास पहुँच गयी थी जिसके चलते आनन-फ़ानन में CBI अधिकारी का तबादला किया गया था?
Reply Retweet Like
Dilip Mandal retweeted
Tejashwi Yadav Feb 19
अनाथ 34 बच्चियों के जनबलात्कार के मुख्य अभियुक्त ब्रजेश ठाकुर को सत्ता पक्ष द्वारा हर कदम पर बचाने, देरी करने, सबूतों को मिटाने की कोशिश बार-बार किसके इशारे पर हुई? नीतीश जी बताए ऐसी किन बातों का ब्रजेश ठाकुर राजदार है कि उन्हें सरकार द्वारा संरक्षण प्रदान किया जा रहा था?
Reply Retweet Like
Dilip Mandal retweeted
Tejashwi Yadav Feb 19
नीतीश कुमार ने IPRD मंत्री की हैसियत से ब्रजेश ठाकुर के बिना Circulation के विभिन्न अख़बारों को लगातार वर्षों तक करोड़ों-करोड़ के विज्ञापन क्यों दिए? क्या इस दृष्टिकोण से भी सीबीआई को मुख्यमंत्री के ख़िलाफ़ जाँच-पड़ताल नहीं करनी चाहिए? किस आधार पर उसे अनवरत विज्ञापन दिए गए?
Reply Retweet Like
Dilip Mandal Feb 19
खुली छूट का कोई मतलब नहीं है. भारत में सेना सरकार के निर्देशन में काम करती है. इस मामले में भारत की स्थिति पाकिस्तान से अलग है, जहां सेना ही सरकार को संचालित करती है. भारत में फैसले सरकार को ही लेने होंगे.
Reply Retweet Like
Dilip Mandal Feb 18
भारत में अमीरी और गरीबी के भेद के कारण लोकतंत्र खतरे में है और अब यह ग्लोबल चिंता का विषय है. गरीबों का भारत की लोकतांत्रिक संस्थाओं से विश्वास उठ रहा है. लंदन यूनिवर्सिटी में पीएचडी प्रोग्राम के तहत असमानता का अध्ययन करने वाले Arvind Kumar का लेख.
Reply Retweet Like
Dilip Mandal Feb 18
को चाहिए कि वे उन लोगों की लिस्ट निकालें जिन्हें उनके शासन में यश भारती यानी 11 लाख रुपए नकद और आजीवन हर महीने 50,000 रुपए पेंशन दिया गया. अगर उनमें से आधे से ज्यादा लोग आज बीजेपी के साथ हैं और बीजेपी का प्रचार कर रहे हैं तो अखिलेश को अपने सलाहकार बदल लेना चाहिए.
Reply Retweet Like
Dilip Mandal Feb 18
मार्क्स के 'द कैपिटल,' 'कम्युनिस्ट मेनिफेस्टो' और 'थीसिस ऑन फायरबाख' लिखने से सैकड़ों साल पहले गुरु रविदास ने शोषण विहीन दुनिया की कल्पना की थी. 'बेगमपुरा' यानी बिना गम का शहर बसाने की परिकल्पना करने वाले गुरु रविदास को नमन. Siddharth Ramu
Reply Retweet Like
Dilip Mandal Feb 18
अखिलेश यादव ने 2015 में इनको यशभारती पुरस्कार दिया था। अब ये बीजेपी के प्रचारक हैं। पंडित अखिलेश को भी ईश्वर बुद्धि दे और वह तेजस्वी बनें।Mohd Zahid
Reply Retweet Like
Dilip Mandal Feb 18
किसानों और ग़रीब परिवार की जवानी सीमा की हिफ़ाज़त के लिए क़ुर्बान हो रही है और इसी मौके पर ब्राह्मण लोग मनुस्मृति का प्रचार करने में जुटे हैं। मेरा दावा है कि इसका प्रवचन सुनने 90 प्रतिशत लोग दलित और पिछड़े होंगे। महिलाएँ ज़्यादा होंगी, जिन्हें मनु नर्क का द्वार बताता है।
Reply Retweet Like