Twitter | Search | |
Sweta Singh
Senior Executive Editor, Programming, अत्र प्रकटिताः विचाराः नैजायासंति। संस्थानं किमपि अत्रैव उत्तरदायित्वं नास्ति।
910
Tweets
188
Following
1,974,740
Followers
Tweets
Sweta Singh 14h
इमारतें तो अंग्रेजों ने भी भारत में बहुत बनवाई थीं। तो इसका मतलब क्या हुआ?
Reply Retweet Like
Sweta Singh Jan 15
सेना दिवस की ढेरों शुभकामनाएँ। आज बड़े दिनों बाद थियटर जाकर फ़िल्म देखी। लाजवाब है और बेमिसाल। जो इतिहास की किताबों ने छुपाया, वो देखकर आइए! वर्किंग डे पर सुबह 11 बजे का शो भी 80 पर्सेंट फुल था
Reply Retweet Like
Sweta Singh Nov 17
स्टेडियम के स्टैंड अधिकतर क्रिकेटरों के नाम पर होते हैं। पर आज के 3 स्टैंड देखकर बहुत गर्व हुआ। ये हैं परमवीर चक्र धन सिंह थापा, परमवीर चक्र जोगिंदर सिंह और अशोक चक्र हंगपन दादा स्टैंड।
Reply Retweet Like
Sweta Singh Nov 13
बिहार बाढ़ में आपके अच्छे काम को देखा इसीलिए आपका प्रतिवाद सम्मान से स्वीकार है। आर्थिक मदद का अधिकार देश भर के हर उस छात्र को मिले जो वंचित हो और पढ़ना चाहता हो। पर गरीबों के हक़ को बाँटकर सभी को रियायत क्यों मिलनी चाहिए?
Reply Retweet Like
Sweta Singh Nov 11
एक तरफ़ हैं 20-21 साल की उम्र में नौकरी करके परिवार का पेट पालने वाले जवान। (जो टैक्स भी भरते हैं) दूसरी तरफ़...
Reply Retweet Like
Sweta Singh Oct 27
“वे गए तो सोचकर यह लौटने वाले नहीं वे। खोज मन का मीत कोई लौ लगाना कब मना है। है अँधेरी रात पर दीया जलाना कब मना है।” (हरिवंशराय बच्चन) उदास मन को रोशन करती, ख़ुश मन में और रंग भरती
Reply Retweet Like
Sweta Singh Oct 15
कहते हैं सब काल्पनिक है। फिर साक्ष्य के तौर पर पेश किया नक़्शा क्यों फाड़ा? 1810 का नक्शा जिसमें तीन गुम्बद के नीचे राममन्दिर लिखा है। बताया जा रहा है कि ब्रिटेन की लाइब्रेरी से हिन्दू महासभा ने इसे निकलवाया है और अदालत में पेश किया।
Reply Retweet Like
Sweta Singh Oct 8
Replying to @moronhumor
😊🙏
Reply Retweet Like
Sweta Singh Oct 8
के पहियों के नीचे रखे उस नींबू की तरह उस बुराई का भी अंत जो अपनी परंपरा के निर्वहन में शर्मिंदगी महसूस करते हैं। पर हमारे शस्त्र और शास्त्र के गौरव की शुभकामनाएँ। और गीता उपदेश ‘नभ: स्पृषं दीप्तं’ को अपना आदर्श वाक्य बनाए भारतीय वायुसेना को नमन।
Reply Retweet Like
Sweta Singh Sep 30
पटना में पानी भरा है तो बाढ़ को ज़रूरी सुर्ख़ियाँ मिली हैं। वरना ये लगभग हर साल का हाल है। इस हद तक कि शायद एक के बाद एक हर सरकार ने इसे नीयति मानकर अधूरे क़दम उठाए। राज्य के लोगों को मदद की आवश्यकता है। हो सके तो योगदान दें 🙏
Reply Retweet Like
Sweta Singh Sep 22
जो कभी कोई बहस नहीं हारता। उसे हमेशा हर चीज़ में जीतते रहने की कामना के साथ, हैप्पी बर्थडे
Reply Retweet Like
Sweta Singh retweeted
Etah Police Sep 19
सूचना :- एटा के कस्बा मलावन में एक बच्चा (उम्र 03 वर्ष) जो अपना नाम इशांत व माता पिता का नाम पिंकी व नेकसे बता रहा है, लेकिन अपने गांव का नाम नहीं बता पा रहा है, यदि किसी को कोई भी जानकारी मिले तो कृपया थाना मलावन के सीयूजी नंबर पर सम्पर्क करें। 9454403248
Reply Retweet Like
Sweta Singh Sep 14
हिन्दी से अधिक सहनशील और समावेशी भाषा कोई दूसरी नहीं। अंग्रेज़ी के शब्द स्वीकार। उर्दू भी सम्मिलित। और क्षेत्रीय भाव उसी रूप में ढलता है। फिर भी कुछ कहते हैं ‘हिंदी थोपो मत’। पर हिन्दी तो उन सभी का ‘ख़ूबसूरत’ ‘मिक्सचर’ है।
Reply Retweet Like
Sweta Singh Sep 6
Replying to @PawanDurani
I’m on a break on Mars 😂
Reply Retweet Like
Sweta Singh Sep 5
ऐसी ही बात करते करते बहुतों का राम नाम सत्य हो गया। इन्हें रामायण और रामचरितमानस का फ़र्क़ तक नहीं पता होगा, जो कल्पना और इतिहास का फ़र्क़ बताने चले हैं।
Reply Retweet Like
Sweta Singh Aug 24
दुकानों का शटर डाउन है। पर दिल का शटर खुल रहा है। ये सुबूत कुछ लोग देखना नहीं चाहेंगे। फिर भी...
Reply Retweet Like
Sweta Singh Aug 21
धन्यवाद
Reply Retweet Like
Sweta Singh Aug 21
Replying to @AashutoshShukla
धन्यवाद
Reply Retweet Like
Sweta Singh Aug 21
Replying to @Nilshar83576266
Thank you
Reply Retweet Like
Sweta Singh Aug 21
Replying to @rameshwar4111 @aajtak
🙏 धन्यवाद
Reply Retweet Like