Twitter | Search | |
सत्यार्चन
सत का / असत का ही नैतिकता है! Prove yourself Human by strengthening The TRUTHll! , n ...
9,341
Tweets
2,679
Following
998
Followers
Tweets
सत्यार्चन 4h
Reply Retweet Like
सत्यार्चन 4h
आओ बनायें सशक्त भारत! - लेखन हिन्दुस्तानी
Reply Retweet Like
सत्यार्चन 7h
हद से गुजर जाये तो मिट जाओ या मिटा दो मगर हद अपनी जरा सी बड़ी रखना!!!
Reply Retweet Like
सत्यार्चन 7h
चिंगारियां ही चिंगारियाँ हैं फैली हुई हर तरफ जाने कब छू जाये और खाक हम हो जाएँ
Reply Retweet Like
सत्यार्चन 7h
Reply Retweet Like
सत्यार्चन 9h
वो है उपस्थित••• नियमित••• लेकर ज्ञान का प्रकाश सानुरोध! अवरोध बना है तुम्हारा प्रतिरोध••• @ Madhya Pradesh
Reply Retweet Like
सत्यार्चन 10h
वो है उपस्थित••• नियमित••• लेकर ज्ञान का प्रकाश सानुरोध! अवरोध बना है तुम्हारा प्रतिरोध••• @ Madhya Pradesh
Reply Retweet Like
सत्यार्चन Sep 19
आशिकी में कोई आशिक अब तक ना हुआ आबाद! जमाना जुटा है जी जान से फिर भी, होने को बर्बाद!! -सत्यार्चन
Reply Retweet Like
सत्यार्चन Sep 19
आओ बनायें सशक्त भारत!! हमारे देश का दुर्भाग्य है कि जनता प्रतिष्ठित के पीछे•••
Reply Retweet Like
सत्यार्चन Sep 19
मीडिया कभी सच दिखाता नहीं! सच देखना सबको आता नहीं!! कोई दिखाये तो क्यों आपको भाता नहीं!!! -सुबुद्ध सत्यार्चन
Reply Retweet Like
सत्यार्चन Sep 19
आदर्श! @ India
Reply Retweet Like
सत्यार्चन Sep 19
दूसरों में आदर्श खोजते रहने से अच्छा है स्वयं आदर्श स्थापित करो और स्वयं के व सबके आदर्श बन जाओ! -अनुपम
Reply Retweet Like
सत्यार्चन Sep 19
आओ सबल भारत बनायें!
Reply Retweet Like
सत्यार्चन Sep 19
हमारे देश का दुर्भाग्य है कि जनता प्रतिष्ठित के पीछे पागल है! प्रतिष्ठा; प्रसिद्धि से मिलती है और इस देश में प्रसिद्धि का सबसे आसान मार्ग अपराध है! जनता; प्रसिद्ध का प्रसिद्धि पाने में अपनाया गया मार्ग देखने में...
Reply Retweet Like
सत्यार्चन Sep 19
Just posted a photo
Reply Retweet Like
सत्यार्चन Sep 19
Reply Retweet Like
सत्यार्चन Sep 19
*मुरझाया फूल* दिल में आया फूल मुस्कुराया! दिल में समाया फूल मुरझाया!! सच कहूँ तो फूल नहीं जीता तुम्हारी तरह आस में निराश में वो नहीं सुनता है कब कौन क्या...
Reply Retweet Like
सत्यार्चन Sep 19
मुरझाया फूल
Reply Retweet Like
सत्यार्चन Sep 18
आज सूखा पत्ता हूँ! - लेखन हिन्दुस्तानी
Reply Retweet Like
सत्यार्चन Sep 18
आज सूखा पत्ता हूँ! 
Reply Retweet Like