Twitter | Search | |
PAANI_WM
A voluntary program for youths started by to make them flag bearers of spreading awareness on Water Management.
175
Tweets
39
Following
99
Followers
Tweets
PAANI_WM 3h
"मत करो मुझको बर्बाद, इतना तो तुम रखो याद, प्यासे ही तुम रह जाओगे, मेरे बिना न जी पाओगे। कब तक बर्बादी का मेरे, तुम तमाशा देखोगे, संकट आएगा जब तुम पर, तब तुम मेरे बारे में सोचोगे।" Start saving water before it's too late.
Reply Retweet Like
PAANI_WM 20h
Reply Retweet Like
PAANI_WM retweeted
Water Resources Department, Government of Bihar 23h
3/3 कोशी बराज से निस्सृत पूवी कोशी मुख्य नहर के 3.66 किमी, राजपुर शाखा नहर के 10 किमी, सहरसा उपशाखा नहर के 60 किमी और अंत में कहरा उपवितरणी के 10 किमी यानी कुल 84 किमी नहर में जलस्राव प्रवाहित कर मतस्यगंधा झील को दिनांक 16 अगस्त 2019 को पुनर्जीवित किया गया।
Reply Retweet Like
PAANI_WM retweeted
Water Resources Department, Government of Bihar 23h
2/3 सैटेलाइट माप से अध्ययन के बाद पता चला कि झील, ऑक्स बो झील है। इसके तल में बलुआही मिट्टी है जिसके कारण जल संचयन क्षमता कम होती चली गयी। बाहर से कोई प्राकृतिक जलस्रोत भी नहीं है, जिसके कारण यह झील सूखता जा रहा था।
Reply Retweet Like
PAANI_WM retweeted
Water Resources Department, Government of Bihar 23h
1/1 बिहार के सहरसा जिले में कोशी नदी के पूर्वी भाग में स्थित है मत्स्यगंधा झील।1996 में निर्मित यह झील, पर्यटकों को आकर्षित करती रही है, पर रख-रखाव के अभाव में यह सूखती चली गयी। माननीय मंत्री श्री के नेतृत्व में इसका जीर्णोद्धार हुआ।
Reply Retweet Like
PAANI_WM 21h
Replying to @MoJSDoWRRDGR
Yamuna
Reply Retweet Like
PAANI_WM retweeted
Nitish Kumar Jan 20
माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी को जल-जीवन-हरियाली अभियान एवं नशा मुक्ति अभियान के पक्ष में तथा बाल विवाह एवं दहेज प्रथा के विरोध में बिहारवासियों द्वारा बनाई गई मानव शृंखला की सराहना हेतु धन्यवाद एवं आभार। जी
Reply Retweet Like
PAANI_WM retweeted
Water Resources Department, Government of Bihar Jan 20
सबल नेतृत्व, सशक्त बिहार। जिला में मधवापुर प्रखंड अन्तर्गत बलवाग्राम के पास बलवाघाट बराज सह सिंचाई योजना का निर्माण कार्य चल रहा है।इस योजना के पूर्ण होने से मधुबनी जिला में 3756.82 हेक्टेयर और सीतामढ़ी जिला में 2843.18 हेक्टेयर में सिंचाई क्षमता का सृजन होगा।
Reply Retweet Like
PAANI_WM retweeted
Water Resources Department, Government of Bihar Jan 20
"बिहार जल संसाधन विभाग का अनूठा प्रयास गंगाजल उद्वह योजना नाम से, नीतीश जी की दूरदर्शी परियोजना अब आठ महीने होगा जल संचय गंगाजल मिलेगा फिर पूरे साल।" गणतंत्र दिवस के अवसर पर अभियान के तहत पर झांकी निकालेगी।
Reply Retweet Like
PAANI_WM 21h
Reply Retweet Like
PAANI_WM Jan 20
जल है जीवन का आधार, जल को न फेंको बेकार। Save water today so that water can save your life tomorrow.
Reply Retweet Like
PAANI_WM Jan 18
Reply Retweet Like
PAANI_WM retweeted
Dr Navneet Anand Jan 18
आधुनिकता की चकाचौंध में हम इतने लीन हो गए हैं कि प्रकृति से जुड़े मुद्दे हमारे लिए गौण हो गए हैं। ऐसे में प्रकृति संरक्षण की दिशा में बिहार वासियों के ऐसा अनुराग देखना सुखद है।
Reply Retweet Like
PAANI_WM retweeted
IndiAgri Jan 18
आंकड़ों के मुताबिक देश की सभी प्रमुख नदियों के जलस्तर में कमी आती जा रही है. अगर वक्त रहते जल-जीवन-हरियाली अभियान जैसी योजनायें पूरे देश में लागू नहीं की गयी, तो हालात कितने ख़राब होंगे इसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती
Reply Retweet Like
PAANI_WM Jan 18
Reply Retweet Like
PAANI_WM retweeted
Water Resources Department, Government of Bihar Jan 18
हम चले हैं कर्म की संज्ञा जुटाने, हम चले हैं हरित धरती को बनाने, हम चले हैं हाथ लेकर हाथ सबका, चेतना की लौ जलाने! उत्साह और जोश से भरपूर, अभियान के स्वयंसेवक और लोग
Reply Retweet Like
PAANI_WM retweeted
Sanjay Kumar Jha Jan 18
प्रकृति को बचाने के लिए बिहार के बच्चे, बूढ़े और जवानों को हाथ में हाथ थामे देखना अद्भुत है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी की यह पहल पूरे देश के लिए एक नजीर है। @
Reply Retweet Like
PAANI_WM retweeted
PAANI_WM Jan 18
“ देते शीतल छांव वृक्ष हैं,  रोकें थकते पांव वृक्ष हैं। योगदान से इस धरती पर, ले आते वरदान हैं वृक्ष।”
Reply Retweet Like
PAANI_WM retweeted
Water Resources Department, Government of Bihar Jan 18
हर घाट, हर गली, हर मोड़ पर सहयोग में जुड़ रहे जो हाथ हैं , होगी हरियाली चारों ओर, हमें यह विश्वास है, जो इस मुहीम में हम और आप सब साथ हैं।
Reply Retweet Like
PAANI_WM Jan 18
“ देते शीतल छांव वृक्ष हैं,  रोकें थकते पांव वृक्ष हैं। योगदान से इस धरती पर, ले आते वरदान हैं वृक्ष।”
Reply Retweet Like