Twitter | Search | |
J Girija Devi,Rajyapravari MPYS(ODISHA STATE)
Retired BSNL employee, Social Activist and Yoga Teacher , Rajya prabhari of mahila patanjali yoga samiti , odisha prant .
4,788
Tweets
1,048
Following
580
Followers
Tweets
J Girija Devi,Rajyapravari MPYS(ODISHA STATE) 10h
Reply Retweet Like
J Girija Devi,Rajyapravari MPYS(ODISHA STATE) retweeted
पतंजलि गुरुकुलम् Aug 3
श्रद्धेय आचार्य बालकृष्ण है वह नाम जिन्होंने जड़ीबूटी को दी नई पहचान
Reply Retweet Like
J Girija Devi,Rajyapravari MPYS(ODISHA STATE) 12h
Reply Retweet Like
J Girija Devi,Rajyapravari MPYS(ODISHA STATE) retweeted
Aastha Channel Aug 3
04/08/2020 ll लाइव - श्रध्येय आचार्य बालकृष्ण जी का पावन जन्मदिन-जड़ी-बूटी दिवस समारोह ll पतंजलि योगपीठ हरिद्वार
Reply Retweet Like
J Girija Devi,Rajyapravari MPYS(ODISHA STATE) 12h
Reply Retweet Like
J Girija Devi,Rajyapravari MPYS(ODISHA STATE) 18h
अश्वगंधा से लेकर हल्दी, गिलोय एवं 4 लाख से अधिक जड़ी बूटियों पर शोध करने के लिए पतंजलि योगपीठ में, 500 रिसर्च साइंटिस्ट की टीम काम कर रही है।
Reply Retweet Like
J Girija Devi,Rajyapravari MPYS(ODISHA STATE) 18h
प्राकृतिक जड़ी-बूटियों हमारे इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाते हैं और बिना किसी दुष्प्रभाव के हमें वायरस से लड़ने की शक्ति प्रदान करते हैं। अतः जड़ी बूटियां हमारे जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं।
Reply Retweet Like
J Girija Devi,Rajyapravari MPYS(ODISHA STATE) 18h
श्रद्धेय आचार्य जी के जन्म दिवस के अवसर पर समस्त देशवासी तुलसी, एलोवेरा, गिलोय, आंवला और नीम घर-घर में लगा कर योग क्रान्ति के साथ-साथ जड़ी बूटी क्रान्ति लाएं और प्रकृति मां को बचाएं।
Reply Retweet Like
J Girija Devi,Rajyapravari MPYS(ODISHA STATE) 18h
महामारियों तथा Viral व Bacterial disease इसका पर्याप्त वर्णन वेदों तथा आयुर्वेद में पहले से ही है। अथर्ववेद में वर्णित मंत्र बताते हैं कि दिखने व ना दिखने वाले कृमियों(bacteria, virus) का औषधीय जड़ी बूटियों द्वारा यज्ञ के माध्यम से नाश होता है।
Reply Retweet Like
J Girija Devi,Rajyapravari MPYS(ODISHA STATE) 18h
आओ जड़ी-बूटी से जीवन का सेतु बनाएं गिलोय लगाकर जन्मदिन का हेतु मनाये
Reply Retweet Like
J Girija Devi,Rajyapravari MPYS(ODISHA STATE) 18h
का अर्थ समझो इसे कहते हैं अमृता देह को उर्जावान निरोग रखने की इसमें क्षमता🌱
Reply Retweet Like
J Girija Devi,Rajyapravari MPYS(ODISHA STATE) 18h
नवजीवन का प्रवाह रहे संजीवन अक्षुण्य अथाह रहे🌿💐
Reply Retweet Like
J Girija Devi,Rajyapravari MPYS(ODISHA STATE) 18h
मैं साक्षी हूं जड़ी-बूटियां इन्हें देख मुस्कराती हैं.. हंस-हंस झूम-झूम कर अपना रहस्य बताती हैं.!🌿💐
Reply Retweet Like
J Girija Devi,Rajyapravari MPYS(ODISHA STATE) 18h
ने एक और देश के लाखों लोगों को रोजगार देने के लिए उद्योग स्थापित किए हैं तो दूसरी ओर पर्यावरण संरक्षण के लिए जड़ी-बूटी दिवस के रूप में अब तक करोड़ों पौधे लगाए जा चुके हैं।
Reply Retweet Like
J Girija Devi,Rajyapravari MPYS(ODISHA STATE) 18h
आयुर्वेद का जन जन के मन खोया विश्वास पुनर्स्थापित करने वाले ऋषि परंपरा के अनुगामी श्रद्धेय आचार्य बाल कृष्ण जी को जन्मदिन की कोटी-कोटि बधाई व अशेष शुभकामनाएं।
Reply Retweet Like
J Girija Devi,Rajyapravari MPYS(ODISHA STATE) 18h
पतंजलि ने जड़ी बूटियो को सम्मान दिया है और लोगो को जड़ी बूटियों के बारे में बताया है, स्वस्थ जीवन जीना सिखाया है और अब तो विदेशी कंपनियां भी अपने उत्पादों में जड़ी बूटी का उपयोग करने लगी हैं।
Reply Retweet Like
J Girija Devi,Rajyapravari MPYS(ODISHA STATE) 18h
सुश्रुत संहिता में स्पष्ट वर्णन है कि विषाणु से लोगों में विभिन्न रोग जैसे जुकाम खांसी सांस लेने में परेशानी सिरदर्द तीव्र नेत्र रोग जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। इन इन्फेक्शन को रोकने हेतु विभिन्न जड़ी बूटियों के चूर्ण से यज्ञ करना चाहिए।
Reply Retweet Like
J Girija Devi,Rajyapravari MPYS(ODISHA STATE) 18h
भारत सदियों से हर बीमारी को इलाज जड़ी बूटीयों की मदद से करता आ रहा है। इसलिए हमारी संस्कृति में इन जड़ी बूटियों का सम्मान, पूजा और संरक्षित करना सिखाया जाता है।
Reply Retweet Like
J Girija Devi,Rajyapravari MPYS(ODISHA STATE) 18h
मात्र जड़ी बूटियों के सेवन से हम अनेकों रोगो से बच जाते हैं। जड़ी बूटी को खान पान में लाने से हम अपनी रोग प्रतरोधक क्षमता को कई गुना बड़ा लेते हैं।
Reply Retweet Like
J Girija Devi,Rajyapravari MPYS(ODISHA STATE) 19h
आप भी बरसात में अपने घर में गिलोय लगाइए और बीमारियों से मुक्ति पाएं 4 अगस्त को जड़ी बूटी दिवस मनाये मानवता बचाये
Reply Retweet Like