Twitter | Search | |
लाइव लॉ हिंदी
No.1 Indian Legal Website As Per FeedSpot List Of Top 40 Indian Legal Sites Winner IDEX LEGAL Award 4Best Legal Journal2018 INBA Award 4Best Legal News Site2017
2,152
Tweets
67
Following
4,665
Followers
Tweets
लाइव लॉ हिंदी 5h
सुप्रीम कोर्ट ने देखा है कि, भले ही जांच अधिकारियों को दिए गए बयानों को एनडीपीएस अधिनियम की धारा 67 के तहत स्वीकार किया जाएगा, परंतु अदालत को संतुष्ट होना होगा कि यह एक स्वैच्छिक बयान है.
Reply Retweet Like
लाइव लॉ हिंदी 5h
डॉक्टर को रिकॉर्डिंग करते कोर्ट क्लर्क ने देखा। इसके बाद डॉक्टर पर जुर्माना लगाया गया और आधार कार्ड और मोबाइल फोन को जब्त कर लिया गया।
Reply Retweet Like
लाइव लॉ हिंदी 12h
सुप्रीम कोर्ट ने 10 साल की बच्ची से बलात्कार और फिर उसकी और भाई की हत्या के दोषी की फांसी पर लगाई रोक court
Reply Retweet Like
लाइव लॉ हिंदी 12h
एनडीपीएस एक्ट : कोर्ट को संतुष्ट होना चाहिए कि कबूलनामा स्वैच्छिक है और अभियुक्त को उसके अधिकारों से अवगत कराया गया है, सुप्रीम कोर्ट का..
Reply Retweet Like
लाइव लॉ हिंदी 13h
केरल भारतीय क्षेत्र में, इसकी अदालतें सुप्रीम कोर्ट के फैसले मानने के लिए बाध्य, चर्च मामले में हाईकोर्ट का फैसला रद्द High Court..
Reply Retweet Like
लाइव लॉ हिंदी 15h
सुप्रीम कोर्ट में SC/ST एक्ट पुनर्विचार याचिका पर तीन जजों की पीठ का गठन, बुधवार को सुनवाई ST hearing court
Reply Retweet Like
लाइव लॉ हिंदी 16h
कर्नाटक में अयोग्य करार विधायकों की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस शांतनागौदर ने सुनवाई से खुद को अलग किया MLA court
Reply Retweet Like
लाइव लॉ हिंदी 16h
ऑल इंडिया बार परीक्षा के लिए 5 छात्रों की अड़चन को बॉम्बे हाईकोर्ट ने दूर किया। इस आदेश से मिली छात्रों को बड़ी राहत।
Reply Retweet Like
लाइव लॉ हिंदी 17h
रविदास मंदिर : दोबारा मूर्ति लगाने और मंदिर बनाने की सुप्रीम कोर्ट में दाखिल याचिका को पीठ ने CJI को पास भेजा Ravidas Temple
Reply Retweet Like
लाइव लॉ हिंदी 19h
डॉक्टर कर रहा था हाईकोर्ट कार्यवाही की वीडियो रिकॉर्डिंग, अदालत ने लगाया 50 हज़ार रुपए का जुर्माना High Court -Recording Cou..
Reply Retweet Like
लाइव लॉ हिंदी 19h
बॉम्बे हाईकोर्ट के पूर्व न्यायाधीश जस्टिस भीमराव एन नाइक का निधन Bhimrao N. Naik
Reply Retweet Like
लाइव लॉ हिंदी 20h
कार्य-प्रभारी कर्मचारियों की नियुक्ति मासिक वेतन पर की गयी थी और उनको भी दक्षता के लिए निर्धारित नियमों को पूरा करने की आवश्यकता थी। ऐसे में गुणवत्ता के तौर पर कैसे उनकी सेवाएं नियमित कर्मचारियों की सेवाओं से अलग हैं?
Reply Retweet Like
लाइव लॉ हिंदी 20h
हज पर जाने वाले तीर्थयात्रियों को उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम की धारा 2 (1) (डी) के अर्थ के भीतर, हज समिति के उपभोक्ता नहीं कहा जा सकता है और इसलिए, हज समिति के खिलाफ कोई भी उपभोक्ता शिकायत बरकरार नहीं थी।
Reply Retweet Like
लाइव लॉ हिंदी 20h
अगर अपराध का इरादा नहीं है तो मकोका के तहत गिरफ़्तारी से संरक्षण दिया जा सकता है, पढ़िए बॉम्बे हाईकोर्ट का फैसला Rea High
Reply Retweet Like
लाइव लॉ हिंदी 21h
जग्गी वासुदेव ईशा फाउंडेशन को 'कावेरी कॉलिंग प्रोजेक्ट' के लिए जनता से पैसा लेने से रोका जाए ,कर्नाटक हाईकोर्ट में जनहित याचिका ..
Reply Retweet Like
लाइव लॉ हिंदी Sep 16
हज पर जाने वाले लोग हज कमेटी के उपभोक्ता नहीं, पढ़ें NCDRC का फैसला Pilgrimages
Reply Retweet Like
लाइव लॉ हिंदी Sep 16
अयोध्या विवाद : सुन्नी वक्फ बोर्ड और निर्वाणी अखाड़ा ने मध्यस्थता के लिए पत्र लिखा, पैनल ने सुप्रीम कोर्ट से मांगे निर्देश Case ..
Reply Retweet Like
लाइव लॉ हिंदी Sep 16
कार्य प्रभारी के रूप में दी गई सेवाओं को भी पेंशन के लिए योग्य सेवा माना जाए , सुप्रीम कोर्ट का फैसला Charged For Pension
Reply Retweet Like
लाइव लॉ हिंदी Sep 16
जम्मू- कश्मीर हाईकोर्ट में क्या हालात हैं, सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट CJ से मांगी रिपोर्ट, CJI भी जा सकते हैं जम्मू-कश्मीर Ranjan Gog..
Reply Retweet Like
लाइव लॉ हिंदी Sep 16
एक डॉक्टर या एक सर्जन पर आपराधिक दायित्व को स्थापित करने के लिए, लापरवाही के मानक को साबित करने की आवश्यकता इतनी अधिक होनी चाहिए.
Reply Retweet Like