Twitter | Search | |
Congress Live
The Official Account for Updates on Press Conferences and Live Events at Indian National Congress .
6,963
Tweets
2
Following
105,693
Followers
Tweets
Congress Live Jul 5
Replying to @PChidambaram_IN
गांव, गरीब, किसान, युवा 2019 के केंद्रीय बजट में खोखले शब्द बन गए हैं। पेट्रोल-डीजल पर 2 रुपए 65 पैसे का अतिरिक्त कर लगाकर देश की जनता पर बोझ लाद दिया है। पिछले 5 सालों में पेट्रोल-डीजल से 13 लाख करोड़ का टैक्स लिया गया है।
Reply Retweet Like
Congress Live Jul 5
Replying to @PChidambaram_IN
आर्थिक सर्वेक्षण की रिपोर्ट बताती है कि कृषि विकास दर में लगातार गिरावट दर्ज की गई है। पिछले साल कृषि विकास दर 2.9% थी, लेकिन वित्त मंत्री जी ने इस मुद्दे पर कोई रोडमैप साझा नहीं किया है।
Reply Retweet Like
Congress Live Jul 5
Replying to @PChidambaram_IN
रक्षा क्षेत्र में बजट के आवंटन को छिपाया गया है। रक्षा मंत्री ने देश की जनता को यह बताना भी उचित नहीं समझा कि इस वर्ष रक्षा के क्षेत्र में पिछले साल के मुकाबले बजट का आवंटन अधिक हुआ है या कम?
Reply Retweet Like
Congress Live Jul 5
Replying to @PChidambaram_IN
यह न केवल अनुचित बल्कि अनैतिक भी है कि सरकार द्वारा सालाना कुल व्यय, कुल राजस्व तथा अतिरिक्त राजस्व प्रबंधन के आंकड़े जनता से छिपाने का प्रयास किया जा रहा है।
Reply Retweet Like
Congress Live Jul 5
Replying to @PChidambaram_IN
पिछले साल 1,60,000 करोड़ का राजस्व घाटा हुआ था। इसका बजट में कहीं भी जिक्र नहीं है। लेकिन हम कैग रिपोर्ट के जरिए यह जानते हैं कि ऐसा हुआ है। पेट्रोल-डीजल पर टैक्स में वृद्धि तथा कस्टम टैक्स में बढ़ोतरी इसी राजस्व को बढ़ाने की नीयत से किया गया है।
Reply Retweet Like
Congress Live Jul 5
Replying to @INCIndiaLive
प्रत्यक्ष कर कोड का इस बजट में कोई जिक्र नहीं है। इसके उलट सरकार द्वारा इनकम टैक्स एक्ट में व्यापक बदलाव लाए जा रहे हैं और ऐसा प्रतीत होता है कि प्रत्यक्ष कर कोड हाल फिलहाल में लागू नही किया जाएगा।
Reply Retweet Like
Congress Live Jul 5
Replying to @PChidambaram_IN
The Modi Govt refuses to measure outcomes, refuses to take note of field reports and refuses to correct the exaggerated claims of success. The budget has been prepared without listening to the voices of the ordinary people or knowledgable economists-
Reply Retweet Like
Congress Live Jul 5
Replying to @PChidambaram_IN
PM believes that only he and his govt can deliver basic public goods and services to the people. We disagree. We think that states have the capacity to deliver public goods and services and it is not correct to reduce state govts to mere local administrations-
Reply Retweet Like
Congress Live Jul 5
Replying to @PChidambaram_IN
The Modi Govt treats India like one big state govt and has taken upon itself the responsibility to do things that are the right and duty of state govts. This is not cooperative federalism, it is an unequal partnership, imposed by the centre upon state govts-
Reply Retweet Like
Congress Live Jul 5
Replying to @PChidambaram_IN
In Part A of the budget, the FM mostly talked about expansion of current programmes and schemes- more rural roads, more electricity connections, more toilets, more LPG connections etc-
Reply Retweet Like
Congress Live Jul 5
Replying to @PChidambaram_IN
The only investment related proposal was to increase the FPI limit from 24% to the sectoral limit pertaining to the industry. If the investee company opts for the higher limit, we are sure this is not the private investment that the CEA had in mind-
Reply Retweet Like
Congress Live Jul 5
Replying to @PChidambaram_IN
The CEA had set the goal for India to become a 5 trillion dollar economy and premised his entire argument on boosting private investment. There was no indication in the budget speech to attract greater private investment-
Reply Retweet Like
Congress Live Jul 5
Replying to @PChidambaram_IN
No meaningful relief to any section of people. FM has increased customs duties on a large number of goods, raised taxes on petrol & diesel, exploitative & proposed extensive amendments to Income Tax Act that would increase tax & compliance burdens on taxpayers-
Reply Retweet Like
Congress Live Jul 5
Replying to @PChidambaram_IN
Has there ever been a budget speech that doesn't disclose allocations to important programmes like MNREGA, mid-day scheme meals, healthcare etc and to vulnerable sections like SC, ST, minorities, women etc. We are shocked by this departure from usual practice-
Reply Retweet Like
Congress Live Jul 5
Replying to @PChidambaram_IN
Budget 2019-2020 is an insipid budget. Has there ever been a budget speech that does not disclose the total revenue, total expenditure, fiscal deficit, revenue deficit, additional revenue mobilisation or financial concessions-
Reply Retweet Like
Congress Live Jul 5
Replying to @PChidambaram_IN
मोदी सरकार पूरे भारत पर एक बड़ी राज्य सरकार के रूप में राज करना चाहती है और उसने राज्य सरकारों की जिम्मेदारियां भी छीन ली है। यह सहकारी संघवाद की भावना के खिलाफ है।
Reply Retweet Like
Congress Live Jul 5
Replying to @PChidambaram_IN
बजट भाषण में किसी तरह के ढांचागत सुधार का कोई जिक्र नहीं है। मुख्य आर्थिक सलाहकार ने भारत के 5 खरब की अर्थव्यस्था बनने की बात कही, लेकिन इस बजट से सबसे अधिक निराशा उन्हें ही हुई होगी।
Reply Retweet Like
Congress Live Jul 5
Replying to @PChidambaram_IN
वित्त मंत्री ने समाज के किसी भी तबके को राहत प्रदान नहीं की है। इसके उलट उन्होंने कई वस्तुओं पर कस्टम ड्यूटी बढा दी है। पेट्रोल-डीजल पर टैक्स में वृद्धि की गई है तथा करदाताओं पर भी टैक्स का बोझ बढ़ा दिया गया है।
Reply Retweet Like
Congress Live Jul 5
Replying to @PChidambaram_IN
2019-20 का ये बजट एक नीरस बजट है। यह एक ऐसा बजट है, जिसमें न तो कुल राजस्व, कुल खर्च, वित्तीय घाटा अथवा राजस्व घाटा का कोई जिक्र नहीं है; न ही मनरेगा, मिड डे मील तथा स्वास्थ्य देखभाल जैसी योजना के लिए धनराशि तय की गई है।
Reply Retweet Like
Congress Live Jul 5
LIVE: Press briefing by , and on Union Budget 2019
Reply Retweet Like