C2yocfzukaetpag
BSF 3h
२२ जनवरी अंधा चकाचौंध का मारा, क्या जाने इतिहास बेचारा, साखी हैं उनकी महिमा के, सूर्य,चंद्र,भूगोल,खगोल। कलम,आज उनकी जय बोल।
Reply Retweet Like More