Ajit Andhare Dec 1
हवाओँ को भी बड़ा गुमाँ था अपनी आज़ादी पर। किसी ने उसे भी ग़ुब्बारे में भर कर बेच दिया।।