Narendra Singh Meena Nov 15
जब किसी देश के अनपढ़ जनसमुदाय पर अपनी विचारधारा थोपनी हो तो , पहले उनको परलौकिक सुख दिलाने की झूठी कहानियां सुनाकर मानसिक गुलाम बनाया जाता है , फिर उनका राजनीतिक और आर्थिक शोषण किया जाता है।