Twitter | Search | |
साडडा हक़!!ऐत्थे रख़!!
258,029
Tweets
397
Following
17,370
Followers
Tweets
साडडा हक़!!ऐत्थे रख़!! 2h
और?,यदि किसी ने परमिशन नहीं दी है तो रेलवे लाईन के पास यह कार्यक्रम किसने होने दिया है?,सरकार किसकी है और कार्यक्रम के आयोजक कौन हैं?,सभी पहलूओं पर गौर किया जाये तो अपराधियों की प्रथम पंक्ति में पंजाब का शासन/प्रशासन ही खडा नजर आता है।
Reply Retweet Like
साडडा हक़!!ऐत्थे रख़!! 2h
Replying to @ansarika1970
शुभरात्रि!!खुर्शीद भाई!!
Reply Retweet Like
साडडा हक़!!ऐत्थे रख़!! retweeted
Khurshid Ansari 2h
क्या कहें? किस से कहें? मन का दुःख जब सीमा पार कर जाए तो व्यंग भी साथ छोड़ देता है। गुस्सा भी बेअर्थः साबित हो जाता है। किस मन से कहूँ ; शुभरात्रि गुरुदेव!!
Reply Retweet Like
साडडा हक़!!ऐत्थे रख़!! 2h
बदइंतजामी तो चूक नाम की ऐसी मां होती है जो हादसों को पैदा करती है,यह पंक्तियां अमृतसर के ट्रेन हादसे का जिम्मेदार तय कर सकती हैं बशर्ते जिम्मेदारी तय करने की इच्छाशक्ति प्रकट की जाये?,लेकिन कौन कम्बख्त जिम्मेदारी तय करना चाहता है?.
Reply Retweet Like
साडडा हक़!!ऐत्थे रख़!! 2h
इस देश के पढे लिखे नेता जाहिल गंवार कुपढ बनकर दिमाग को ठंडी सडक की तरह इस्तेमाल करते हुए ट्रेनों और पटरियों से संवेदनशील होने की उम्मीद करते हैं और ऐसा नहीं हो पाने पर बेजान पटरियों पर दौडती हुई ट्रेन को दोषी मानकर एक दूसरे पर कीचड उछालने लगते हैं,अमृतसर का ट्रेन हादसा प्रमाण है।
Reply Retweet Like
साडडा हक़!!ऐत्थे रख़!! 3h
महाराजा तो पटियाला पैग मार चुके हैं इसलिए कदमों की लडखडाहट ने महाराजा को बेबस कर दिया है?,कोई बात नहीं है,सुबह नशे की खुमारी उतरने के बाद दुर्घटना स्थल का राजकीय दौरा कर लिया जायेगा?,बेफिक्र रहिये,रस्मी तौर पर प्रेस के सामने भी उबकाई लेकर दस बीस शब्दों की उल्टी की जायेगी।
Reply Retweet Like
साडडा हक़!!ऐत्थे रख़!! 3h
अन्ततः अंधभक्त और अंडभक्त अपनी अपनी पार्टियों के बचाव में जुट गये हैं,हादसे की जिम्मेदार ट्रेन और पटरियां मान ली गयी हैं?,कार्यक्रम के आयोजकों/स्थानीय प्रशासन का कोई दोष नहीं है?.
Reply Retweet Like
साडडा हक़!!ऐत्थे रख़!! 3h
प्रोग्राम के आयोजकों तथा स्थानीय प्रशासन की सामूहिक जिम्मेदारी थी कि आने वाली भीड को रेलवे की पटरियों पर जाने से रोकने के लिए बंदोबस्त करने थे,अफसोस!! ऐसा नहीं किया गया था।
Reply Retweet Like
साडडा हक़!!ऐत्थे रख़!! retweeted
Ajay Kaswan 4h
आज आयोजकों की लापरवाही की क़ीमत कितनों को अपनी जान गवा कर चुकानी पड़ी .. बेहद दुःखद ... भगवान मृतकों की आत्मा को शांति प्रदान करे। परिवारों को दुःख सहन करने की शक्ति दे भगवान।
Reply Retweet Like
साडडा हक़!!ऐत्थे रख़!! 5h
Replying to @BhootSantosh
शुभरात्रि!!मेरे प्रिय अनुज संतोष जी।
Reply Retweet Like
साडडा हक़!!ऐत्थे रख़!! retweeted
santosh gupta 5h
सादर शुभरात्रि हो आदरणीय गुरुदेव 🙏 🌹
Reply Retweet Like
साडडा हक़!!ऐत्थे रख़!! retweeted
RAMESH KUMAR 5h
Replying to @77_ShabadPrahar
किसने परमिशन दिया था ।इस आयोजन का। सबको सजा होगी ।सरकार जाच कर रही है। नवजोत सिद्धू ,पत्नी संग गये थे। रावण भाजपा। 👁️👀👁️
Reply Retweet Like
साडडा हक़!!ऐत्थे रख़!! retweeted
Priyanka Shrma 5h
Replying to @77_ShabadPrahar
आदरणिय प्रमोद जी पूतला जलाने की जरूरत नहीं है प्रदूषण फैलेगा अपने कडी निंदा मंत्री है ना राजनाश सिंग वह रावण की कडी निंदा कर देंगे हर बार की तरह
Reply Retweet Like
साडडा हक़!!ऐत्थे रख़!! retweeted
श्याम [RS] 6h
शुभरात्री प्रमोद भाईजी🙏
Reply Retweet Like
साडडा हक़!!ऐत्थे रख़!! retweeted
उमेश शांति भट्ट 🇮🇳 6h
शुभरात्रि आदरणीय गुरूदेव 🙏🏻🌹
Reply Retweet Like
साडडा हक़!!ऐत्थे रख़!! retweeted
श्याम [RS] 6h
शुभरात्री भाईजी🙏
Reply Retweet Like
साडडा हक़!!ऐत्थे रख़!! 6h
अमृतसर में ट्रेन हादसा और पचास से ज्यादा लोगों की मौत?,रेलवे विभाग जिम्मेदार नहीं है,यह तो रावण की करतूत है?,आज जला दिये गये रावण के पुतले को एक बार फिर रेलवे मंत्रालय के सामने आग के हवाले करते हुए दंडित किया जाये?,रावण आज भी बाज नहीं आया है,सरकारें पहले भी बरी थीं,आज भी बरी हैं।
Reply Retweet Like
साडडा हक़!!ऐत्थे रख़!! 6h
शुभरात्रि!!श्याम भाई!!
Reply Retweet Like
साडडा हक़!!ऐत्थे रख़!! retweeted
श्याम [RS] 7h
शुभसंध्या और शुभरात्री एक साथ समर्पित🙏
Reply Retweet Like
साडडा हक़!!ऐत्थे रख़!! retweeted
उमेश शांति भट्ट 🇮🇳 7h
Replying to @77_ShabadPrahar
शुभ संध्या आदरणीय गुरूदेव 🙏🏻🙏🏻🌹
Reply Retweet Like